शुक्रवार आरती

शुक्रवार आरती

आरती

शुक्रवार आरती

आरती लक्ष्मण बालाजी की
असुर संहारन प्राणपति की

जगमग ज्योति अवधपुर राजे
शेषाचल पै आप विराजे

घंटा ताल पखावज बाजे
कोटि देव मुनि आरती साजे

किरीट मुकुट कर धनुष विराजे
तीन लोक जाकी शोभा राजे

कंचन थार कपूर सुहाई
आरती करत सुमित्रा माई

आरती कीजै हरि की तैसी
ध्रुव प्रहलाद विभीषण जैसी

प्रेम मगन होय आरती गावे
बसि बैकुण्ठ बहुरि नहीं आवै

भक्ति हेतु हरि ध्यान लगावे
जन घनश्याम परमपद पावै

Please Share This Article

वेद पुराण

संबन्धित पोस्ट

मां गंगा आरती

वेद पुराण

मां गंगा आरती

पूर्ण लेख पढ़ें.....
महालक्ष्मी आरती

वेद पुराण

महालक्ष्मी आरती

पूर्ण लेख पढ़ें.....
श्री विश्वकर्मा आरती

वेद पुराण

श्री विश्वकर्मा आरती

पूर्ण लेख पढ़ें.....

Leave a Comment

वेद पुराण ज्ञान

भारतीय संस्कृति/ सभ्यता को सर्वोपरि रख कर सभी तक अपने पूर्वजों के द्वारा दिया हुआ ज्ञान आप तक पहुचाने के लिए बनाया गया सरल हिन्दी भाषा में