भाई दूज शुभ मुहूर्त 2023

त्योहार

नमस्कार अभी सभी को हमारी वैबसाइट वेद पुराण ज्ञान पर स्वागत है : भाई बहन के परस्पर प्रेम एवं सम्मान का प्रतीक भाई दूज का पर्व दीपावली के महोत्सव का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। यह कार्तिक माह में शुक्ल पक्ष के दूसरे दिन अर्थात दीपावली के दो दिन बाद पड़ता है। इस दिन बहनें अपने भाइयों को तिलक एवं आरती करके, उनके लंबे और खुशहाल जीवन की प्रार्थना करती हैं। जिसके बाद भाई अपनी बहनों को उपहार देते हैं।

भाई दूज
Image Source भाई दूज – जागरण टीवी

भाई दूज का ये त्यौहार सम्पूर्ण भारतवर्ष में अलग-अलग नामों से मनाया जाता है। जैसे भाऊ बीज, भात्र द्वितीय और भतरु द्वितीय। लेकिन इस पर्व का सर और महत्व सभी स्थानों पर एक ही जैसा है।

शुभ मुहूर्त

  • ब्रह्म मुहूर्त – 04:30 AM से 05:22 AM तक
  • प्रातः सन्ध्या – 04:56 AM से 06:15 AM तक
  • विजय मुहूर्त – 01:32 PM से 02:15 PM तक
  • गोधूलि मुहूर्त – 05:10 PM से 05:36 PM तक
  • सायाह्न सन्ध्या – 05:10 PM से 06:29 PM तक
  • अमृत काल – 06:21 PM से 07:56 PM तक

विशेष योग

रवि योग: 16 नवंबर, 03:01 AM से 06:15 AM तक

भाई दूज का यह पावन पर्व दक्षिण भारत में यम द्वितीया के रूप में जाना जाता है, जबकि उत्तर भारत में यह त्यौहार भाई दूज के रूप में घर-घर में प्रसिद्ध है। हमारी कामना है कि भाई-बहन के स्नेह को दर्शाने वाला यह त्यौहार आपके रिश्ते में और मधुरता लाए, और भाई-बहन का साथ यूं ही बना रहे।

Please Share This Article

वेद पुराण

संबन्धित पोस्ट

वेद पुराण

देवउत्थान एकादशी के शुभ मुहूर्त की जानकारी

पूर्ण लेख पढ़ें.....
छट

वेद पुराण

छठ पर्व क्यों मनाया जाता है और क्या है इसका महत्व

पूर्ण लेख पढ़ें.....

वेद पुराण

भाई दूज तिलक विधि 2023

पूर्ण लेख पढ़ें.....

Leave a Comment

वेद पुराण ज्ञान

भारतीय संस्कृति/ सभ्यता को सर्वोपरि रख कर सभी तक अपने पूर्वजों के द्वारा दिया हुआ ज्ञान आप तक पहुचाने के लिए बनाया गया सरल हिन्दी भाषा में