काली माता की आरती

काली माता की आरती

कुछ नया

अम्बे तू है जगदम्बे काली, जय दुर्गे खप्पर वाली |
माँ काली आरती तेरे ही गुण गायें भारती, ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती ||

तेरे भक्तजनों पे माता, भीर पड़ी है भारी |
दानव दल पर टूट पड़ो माँ, करके सिंह सवारी ||

सौ सौ सिंहों से तु बलशाली, दस भुजाओं वाली |
दुखियों के दुखड़े निवारती, ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती ||

माँ बेटे का है इस जग में, बड़ा ही निर्मल नाता |
पूत कपूत सुने हैं पर, माता ना सुनी कुमाता ||

सब पर करुणा दर्शाने वाली, अमृत बरसाने वाली |
दुखियों के दुखडे निवारती, ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती ||

नहीं मांगते धन और दौलत, न चांदी न सोना |
हम तो मांगे मां तेरे मन में, इक छोटा सा कोना ||

सबकी बिगडी बनाने वाली, लाज बचाने वाली |
सतियों के सत को संवारती, ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती ||

अम्बे तू है जगदम्बे काली, जय दुर्गे खप्पर वाली |
तेरे ही गुण गायें भारती, ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती ||

Please Share This Article

वेद पुराण

संबन्धित पोस्ट

वेद पुराण

अर्जुन को गीता ज्ञान

पूर्ण लेख पढ़ें.....
परशुराम जयंती

वेद पुराण

भगवान परशुराम जयंती 2024

पूर्ण लेख पढ़ें.....
हजार गायों का उपहार

वेद पुराण

हजार गायों का उपहार

पूर्ण लेख पढ़ें.....

Leave a Comment

वेद पुराण ज्ञान

भारतीय संस्कृति/ सभ्यता को सर्वोपरि रख कर सभी तक अपने पूर्वजों के द्वारा दिया हुआ ज्ञान आप तक पहुचाने के लिए बनाया गया सरल हिन्दी भाषा में