आरती श्री जाहरवीर जी की

आरती श्री जाहरवीर जी की

आरती

आरती श्री जाहरवीर जी की

जय जय जाहरवीर हरे,जय जय गूगा वीर हरे
धरती पर आ कर भक्तों के दुख दूर करे॥

जय जय जाहरवीर हरे॥

जो कोई भक्ति करे प्रेम से हां जी करे प्रेम से
भागे दुख परे विघ्न हरे,मंगल के दाता तन का कष्ट हरे।

जय जय जाहरवीर हरे॥

जेवर राव के पुत्र कहाई रानी बाछल माता
बागड़ जन्म लिया वीर ने जय-जयकार करे॥

जय जय जाहरवीर हरे॥

धर्म की बेल बढ़ाई निश दिनतपस्या रोज करे
दुष्ट जनों को दंड दिया जग में रहे आप खरे॥

जय जय जाहरवीर हरे॥

सत्य अहिंसा का व्रत धारा झूठ से आप डरे
वचन भंग को बुरा समझकर घर से आप निकरे॥

जय जय जाहरवीर हरे॥

माड़ी में तुम करी तपस्याअचरज सभी करे
चारों दिशाओं में भक्त आ रहे आशा लिए उतरे॥

जय जय जाहरवीर हरे॥

भवन पधारो अटल क्षेत्र कहा भक्तों की सेवा करे
प्रेम से सेवा करे जो कोई धन के भंडार भरे॥

जय जय जाहरवीर हरे॥

तन मन धन अर्पण करकेभक्ति प्राप्त करें
भादो कृष्ण नौमी के दिनपूजन भक्ति करें॥

जय जय जाहरवीर हरे॥

Please Share This Article

वेद पुराण

संबन्धित पोस्ट

मां गंगा आरती

वेद पुराण

मां गंगा आरती

पूर्ण लेख पढ़ें.....
शुक्रवार आरती

वेद पुराण

शुक्रवार आरती

पूर्ण लेख पढ़ें.....
महालक्ष्मी आरती

वेद पुराण

महालक्ष्मी आरती

पूर्ण लेख पढ़ें.....

Leave a Comment

वेद पुराण ज्ञान

भारतीय संस्कृति/ सभ्यता को सर्वोपरि रख कर सभी तक अपने पूर्वजों के द्वारा दिया हुआ ज्ञान आप तक पहुचाने के लिए बनाया गया सरल हिन्दी भाषा में