राधा आरती

राधा आरती

आरती

राधा आरती

आरती श्री वृषभानुसुता की,
मंजुल मूर्ति मोहन ममता की।

त्रिविध तापयुत संसृति नाशिनी,
विमल विवेक विराग विकासिनि।

पावन प्रभु पद प्रीति प्रकाशिनि,
सुन्दरतम छवि सुंदरता की।

। आरती श्री वृषभानुसुता की ।

मुनि मन मोहन मोहन मोहनि,
मधुर मनोहर मूरति सोहनि।

अविरल प्रेम अमिय रस दोहनि,
प्रिय अति सदा सखी ललिता की।

। आरती श्री वृषभानुसुता की ।

संतत सेव्य सत मुनि जनकी,
आकर अमित दिव्य गुन गानकी।

आकर्षिणी कृष्ण तन मनकी,
अति अमूल्य सम्पत्ति समता की।

। आरती श्री वृषभानुसुता की ।

कृष्णात्मिका, कृष्ण सहचारिणी,
चिन्मय वृन्दा विपिन विहारिणि।

जगजननी जग दुख निवारिणी,
आदि अनादि शक्ति विभुता की।

। आरती श्री वृषभानुसुता की ।

Please Share This Article

वेद पुराण

संबन्धित पोस्ट

मां गंगा आरती

वेद पुराण

मां गंगा आरती

पूर्ण लेख पढ़ें.....
शुक्रवार आरती

वेद पुराण

शुक्रवार आरती

पूर्ण लेख पढ़ें.....
महालक्ष्मी आरती

वेद पुराण

महालक्ष्मी आरती

पूर्ण लेख पढ़ें.....

Leave a Comment

वेद पुराण ज्ञान

भारतीय संस्कृति/ सभ्यता को सर्वोपरि रख कर सभी तक अपने पूर्वजों के द्वारा दिया हुआ ज्ञान आप तक पहुचाने के लिए बनाया गया सरल हिन्दी भाषा में