श्री चित्रगुप्त जी की आरती

श्री चित्रगुप्त जी की आरती

आरती

ॐ जय चित्रगुप्त हरे,स्वामी जय चित्रगुप्त हरे।
भक्त जनों के इच्छित,फल को पूर्ण करें॥

ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

विघ्न विनाशक मंगलकर्ता,सन्तन सुखदायी।
भक्तन के प्रतिपालक,त्रिभुवन यश छाई॥

ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

रूप चतुर्भुज,स्यामल मूरति, पीताम्बर राजै।
मातु इरावती,दक्षिणा, वाम अङ्ग साजै॥

ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

कष्ट निवारण, दुष्ट संहार,प्रभु अन्तर्यामी।
सृष्टि संहार, जन दुःख हरण,प्रकट हुए स्वामी॥

ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

कलम, दवात, शङ्ख,पत्रिका, कर में अति सोहे।
वैजयन्ती वरमाला,त्रिभुवन मन मोहे॥

ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

सिंहासन का कार्य संभाला,ब्रह्मा हर्षाये।
तैंतीस कोटि देवता,चरणन में धाये॥

ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

नृपति सौदास, भीष्म पितामह,याद तुम्हें कीन्हा।
वेगि विलम्ब न लावो,इच्छित फल दीन्हा॥

ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

दारा, सुत, भगिनी,सब अपने स्वास्थ्य के कर्ता।
जाऊँ कहाँ शरण में किसकी,तुम तज मैं भर्ता॥

ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

बंधु, पिता तुम स्वामी,शरण गहूं किसकी।
तुम बिन और न दूजा,आस करूं जिसकी॥

ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

जो जन चित्रगुप्त जी की आरती,प्रेम सहित गावे।
चौरासी से निश्चित छूटे,इच्छित फल पावै॥

ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

न्यायाधीश वैकुण्ठ निवासी,पाप पुण्य लिखते।
हम हैं शरण तिहारी,आस न दूजी करते॥

ॐ जय चित्रगुप्त हरे…॥

Please Share This Article

वेद पुराण

संबन्धित पोस्ट

मां गंगा आरती

वेद पुराण

मां गंगा आरती

पूर्ण लेख पढ़ें.....
शुक्रवार आरती

वेद पुराण

शुक्रवार आरती

पूर्ण लेख पढ़ें.....
महालक्ष्मी आरती

वेद पुराण

महालक्ष्मी आरती

पूर्ण लेख पढ़ें.....

Leave a Comment

वेद पुराण ज्ञान

भारतीय संस्कृति/ सभ्यता को सर्वोपरि रख कर सभी तक अपने पूर्वजों के द्वारा दिया हुआ ज्ञान आप तक पहुचाने के लिए बनाया गया सरल हिन्दी भाषा में