श्री शारदा आरती

श्री शारदा आरती

आरती

श्री शारदा आरती

भुवन विराजी शारदा,
महिमा अपरम्पार।

भक्तों के कल्याण को
धरो मात अवतार ॥

मैया शारदा तोरे दरबार
आरती नित गाऊँ।

मैया शारदा तोरे दरबार
आरती नित गाऊँ।

नित गाऊँ मैया नित गाऊँ।

मैया शारदा तोरे दरबार
आरती नित गाऊँ।

श्रद्धा को दिया प्रीत की बाती
असुअन तेल चढ़ाऊँ।

श्रद्धा को दीया प्रीत की बाती
असुअन तेल चढ़ाऊँ ।

दरश तोरे पाऊं
मैया शारदा तोरे दरबार
आरती नित गाऊँ।

मन की माला आँख के मोती
भाव के फूल चढ़ाऊं।

मन की माला आँख के मोती
भाव के फूल चढ़ाऊं ॥

दरश तोरे पाऊं
मैया शारदा तोरे दरबार
आरती नित गाऊँ।

बल को भोग श्वास दिन राती
कंधे से विनय सुनाऊँ।

बल को भोग श्वास दिन राती
कंधे से विनय सुनाऊँ ॥

दरश तोरे पाऊं
मैया शारदा तोरे दरबार
आरती नित गाऊँ।

तप को हार कर्ण को टीका
ध्यान की ध्वजा चढ़ाऊं।

तप को हार कर्ण को टीका
ध्यान की ध्वजा चढ़ाऊं॥

दरश तोरे पाऊं
मैया शारदा तोरे दरबार
आरती नित गाऊँ।

माँ के भजन साधु सन्तन को
आरती रोज सुनाऊँ।

माँ के भजन साधु सन्तन को
आरती रोज सुनाऊँ ॥

दरश तोरे पाऊं
मैया शारदा तोरे दरबार
आरती नित गाऊँ।

सुमर-सुमर माँ के जस गावें
चरनन शीश नवाऊँ।

सुमर-सुमर माँ के जस गावें
चरनन शीश नवाऊँ ॥

दरश तोरे पाऊं
मैया शारदा तोरे दरबार
आरती नित गाऊँ।

मैया शारदा तोरे दरबार
आरती नित गाऊँ।

भुवन विराजी शारदा,
महिमा अपरम्पार।

भक्तों के कल्याण को
धरो मात अवतार ॥

मैया शारदा तोरे दरबार
आरती नित गाऊँ।

मैया शारदा तोरे दरबार
आरती नित गाऊँ।

नित गाऊँ मैया नित गाऊँ।

मैया शारदा तोरे दरबार
आरती नित गाऊँ।

श्रद्धा को दिया प्रीत की बाती
असुअन तेल चढ़ाऊँ।

श्रद्धा को दीया प्रीत की बाती
असुअन तेल चढ़ाऊँ ।

दरश तोरे पाऊं
मैया शारदा तोरे दरबार
आरती नित गाऊँ।

मन की माला आँख के मोती
भाव के फूल चढ़ाऊं।

मन की माला आँख के मोती
भाव के फूल चढ़ाऊं ॥

दरश तोरे पाऊं
मैया शारदा तोरे दरबार
आरती नित गाऊँ।

बल को भोग श्वास दिन राती
कंधे से विनय सुनाऊँ।

बल को भोग श्वास दिन राती
कंधे से विनय सुनाऊँ ॥

दरश तोरे पाऊं
मैया शारदा तोरे दरबार
आरती नित गाऊँ।

तप को हार कर्ण को टीका
ध्यान की ध्वजा चढ़ाऊं।

तप को हार कर्ण को टीका
ध्यान की ध्वजा चढ़ाऊं॥

दरश तोरे पाऊं
मैया शारदा तोरे दरबार
आरती नित गाऊँ।

माँ के भजन साधु सन्तन को
आरती रोज सुनाऊँ।

माँ के भजन साधु सन्तन को
आरती रोज सुनाऊँ ॥

दरश तोरे पाऊं
मैया शारदा तोरे दरबार
आरती नित गाऊँ।

सुमर-सुमर माँ के जस गावें
चरनन शीश नवाऊँ।

सुमर-सुमर माँ के जस गावें
चरनन शीश नवाऊँ ॥

दरश तोरे पाऊं
मैया शारदा तोरे दरबार
आरती नित गाऊँ।

मैया शारदा तोरे दरबार
आरती नित गाऊँ।

Please Share This Article

वेद पुराण

संबन्धित पोस्ट

मां गंगा आरती

वेद पुराण

मां गंगा आरती

पूर्ण लेख पढ़ें.....
शुक्रवार आरती

वेद पुराण

शुक्रवार आरती

पूर्ण लेख पढ़ें.....
महालक्ष्मी आरती

वेद पुराण

महालक्ष्मी आरती

पूर्ण लेख पढ़ें.....

Leave a Comment

वेद पुराण ज्ञान

भारतीय संस्कृति/ सभ्यता को सर्वोपरि रख कर सभी तक अपने पूर्वजों के द्वारा दिया हुआ ज्ञान आप तक पहुचाने के लिए बनाया गया सरल हिन्दी भाषा में