आरती श्री भगवद् गीता

आरती श्री भगवद् गीता

आरती

आरती श्री भगवद् गीता

जय भगवद् गीते,
जय भगवद् गीते ।
हरि-हिय-कमल-विहारिणी,
सुन्दर सुपुनीते ॥

कर्म-सुमर्म-प्रकाशिनि,
कामासक्ति हरा ।
तत्त्वज्ञान-विकाशिनि,
विद्या ब्रह्म परा ॥
॥ जय भगवद् गीते…॥

निश्चल-भक्ति-विधायिनी,
निर्मल मल्हारी ।
शरण-सहस्य-प्रदायिनि,
सब विधि सुख कारी ॥
॥ जय भगवद् गीते…॥

राग-द्वेष-विदारिणी,
कारिणि मोद सदा ।
भव-भय-हारिणि,
तारिणी परमानंद प्रदा ॥
॥ जय भगवद् गीते…॥

आसुर-भाव-विनाशिनि,
नाशिनी तम रजनी ।
दैवी सद् गुणदायिनि,
हरि-रसिका सजनी ॥
॥ जय भगवद् गीते…॥

समता, त्याग सिखावनि,
हरि-मुख की बानी ।
सकल शास्त्र की स्वामिनी,
श्रुतियों की रानी ॥
॥ जय भगवद् गीते…॥

दया-सुधा बरसावनि,
मातु! कृपा कीजै ।
हरिपद-प्रेम दान कर,
अपनो कर लीजै ॥
॥ जय भगवद् गीते…॥

जय भगवद् गीते,
जय भगवद् गीते ।
हरि-हिय-कमल-विहारिणी,
सुन्दर सुपुनीते ॥

Please Share This Article

वेद पुराण

संबन्धित पोस्ट

मां गंगा आरती

वेद पुराण

मां गंगा आरती

पूर्ण लेख पढ़ें.....
शुक्रवार आरती

वेद पुराण

शुक्रवार आरती

पूर्ण लेख पढ़ें.....
महालक्ष्मी आरती

वेद पुराण

महालक्ष्मी आरती

पूर्ण लेख पढ़ें.....

Leave a Comment

वेद पुराण ज्ञान

भारतीय संस्कृति/ सभ्यता को सर्वोपरि रख कर सभी तक अपने पूर्वजों के द्वारा दिया हुआ ज्ञान आप तक पहुचाने के लिए बनाया गया सरल हिन्दी भाषा में